Surah Al-Mulk

Surah Al-Mulk क़ुरान का ६७ वा चैप्टर हैं, जो क़ुरान के कुछ सुरह में से एक हैं, जो आपको रोज पढ़ने चाहिए। इस सुरह को मक्का शहर में बताया गया था, इसलिए इस सुरह को "Makki Surah" भी कहा जाता हैं। इसमें ३० आयतें हैं और ३६३ शब्द हैं जिसे पढ़ने में आपको ज्यादा समय नहीं लगेग। इस वेबसाइट पर हम आपको Surah Mulk को पढ़ने का तरीका और फायदे बताएँगे।

Surah Mulk

इस वेबसाइट को हमने Surah Mulk को डिटेल में बताने के लिए तैयार किया हैं। तो बिना देर किये बताते हैं की ये सूरह क्या हैं। सूरह मुल्क क़ुरान का ६७ वा हिस्सा हैं, जो ३० आयतो से मिलकर बनाया गया हैं। इस सूरह को पढ़ने के फायदे बोहोत हैं जो हम इस वेबसाइट पर हम आपको बताएँगे। इसलिए हर मुसलमान को इस सूरह को याद कर लेना चाहिए। अगर याद नहीं हो पा रहा, तो कही से देखकर इसे जरूर पढ़ना चाहिए।

इस सूरह में सिर्फ ३० आयत होने से, आप अगर इसे रोज पढ़ेंगे, तो एक महीने के अंदर आप इसे बिना देखे याद कर पाएंगे। इसको कैसे याद करे इसका आसान सी तरकीब हम बताते हैं। पहले दिन आप सूरह को पूरी तरह पढ़े और सिर्फ पहली आयत को याद करने की कोशिश कीजिये। अगर आपको याद नहीं आ रहा तो आप फिर पढ़िए और याद कीजिये। आप उस आयत को तीन बार लिख के देखिये। इससे पहली आयत पूरी तरह याद हो जाएगी। दूसरे दिन पहली और दूसरी आयत याद कीजिये। ऐसे हर दिन एक और आयत को याद कीजिये। इस तरह एक महीने में आप इसे पूरी तरह याद कर पाएंगे।

जब आप इस Surah को रोज पढ़ेंगे, तो आपको कब्र की सजा से आज़ादी मिलेगी। इसे ऐसेही नहीं कहा गया हैं। इसके फायदे बताने वाली हदीसे हैं जो Surah Al-Mulk के बारे में जिक्र करती हैं। खुद नबी मोहम्मद इस सूरह को हर रत पढ़ा करते थे। इमाम अहमद ने लिखा की नबी मोहम्मद ने बताया की क़ुरान का एक ऐसा हिस्सा हैं, जिसमे तीस आयते हैं, जो अंत में, इसे पढ़ने वालो को सजा से बचाती हैं, जबतक की वो जन्नत में न चला जाए। और भी कई हदीसो में जिक्र मिलता हैं की, ये सूरह जन्नत में जाने तक का सफर आसान बना देता हैं।

जब आप इस सूरह को रात में सोने से पहले पढ़ते हैं, तो आपका बचाव करने के लिए फ़रिश्ते भेज दिए जाते हैं। फ़रिश्ते इसलिए क्योंकि जब आप सोते रहते हो, तो आप खुदको बुरी ताकदो से नहीं बचा सकते। इसलिए, हर एक मुस्लमान को इस सूरह को उसके मतलब सहित जान लेना और पढ़ना जरूरी हो जाता हैं।

Surah Mulk Arabic

Surah Mulk
Surah Mulk
Surah Al-Mulk
Surah Al-Mulk
Surah Mulk
Surah Mulk

अगर आपको अरबिक भाषा समझ आती हैं, तो आप ये सूरह पढ़ पाएंगे। अगर आपको नहीं आती तो कोई बात नहीं, हमने इसके निचे अन्य भाषा में इसको दिया हैं। आप वहाँ से Surah Al-Mulk को पढ़ सकते हैं।

Surah Mulk in Roman English

  1. Tabaarakal lazee biyadihil mulku wa huwa ‘alaa kulli shai-in qadeer

  2. Allazee khalaqal mawta walhayaata liyabluwakum ayyukum ahsanu ‘amalaa; wa huwal ‘azeezul ghafoor

  3. Allazee khalaqa sab’a samaawaatin tibaaqam maa taraa fee khalqir rahmaani min tafaawut farji’il basara hal taraa min futoor

  4. Summar ji’il basara karrataini yanqalib ilaikal basaru khaasi’anw wa huwa haseer

  5. Wa laqad zaiyannas samaaa’ad dunyaa bimasaa beeha wa ja’alnaahaa rujoomal lish shayaateeni wa a’tadnaa lahum ‘azaabas sa’eer

  6. Wa lillazeena kafaroo bi rabbihim ‘azaabu jahannama wa bi’sal maseer

  7. Izaaa ulqoo feehaa sami’oo lahaa shaheeqanw wa hiya tafoor

  8. Takaadu tamayyazu minal ghaizz kullamaaa ulqiya feehaa fawjun sa alahum khazanatuhaaa alam ya’tikum nazeer

  9. Qaaloo balaa qad jaaa’anaa nazeerun fakazzabnaa wa qulnaa maa nazzalal laahu min shai in in antum illaa fee dalaalin kabeer

  10. Wa qaaloo law kunnaa nasma’u awna’qilu maa kunnaa feee as haabis sa’eer

  11. Fa’tarafoo bizambihim fasuhqal li as haabis sa’eer

  12. Innal lazeena yakhshawna rabbahum bilghaibi lahum maghfiratunw wa ajrun kabeer

  13. Wa asirroo qawlakum awijharoo bih; innahoo ‘aleemum bizaatis sudoor

  14. Alaa ya’lamu man khalaqa wa huwal lateeful khabeer

  15. Huwal lazee ja’ala lakumul arda zaloolan famshoo fee manaakibihaa wa kuloo mir rizqih; wa ilaihin nushoor

  16. ‘A-amintum man fissamaaa’i aiyakhsifa bi kumul arda fa izaa hiya tamoor

  17. Am amintum man fissamaaa’i ai yursila ‘alaikum haasiban fasata’lamoona kaifa nazeer

  18. Wa laqad kazzabal lazeena min qablihim fakaifa kaana nakeer

  19. Awalam yaraw ilat tairi fawqahum saaaffaatinw wa yaqbidn; maa yumsikuhunna il’lar rahmaan; innahoo bikulli shai im baseer

  20. Amman haazal lazee huwa jundul lakum yansurukum min doonir rahmaan; inilkaafiroona illaa fee ghuroor

  21. Amman haazal lazee yarzuqukum in amsaka rizqah; bal lajjoo fee ‘utuwwinw wa nufoor

  22. Afamai yamshee mukibban ‘alaa wajhihee ahdaaa ammany yamshee sawiyyan ‘alaa siratim mustaqeem

  23. Qul huwal lazee ansha akum wa ja’ala lakumus sam’a wal absaara wal af’idata qaleelam maa tashkuroon

  24. Qul huwal lazee zara akum fil ardi wa ilaihi tuhsharoon

  25. Wa yaqooloona mataa haazal wa’du in kuntum saadiqeen

  26. Qul innamal ‘ilmu ‘indallaahi wa innamaaa ana nazeerum mubeen

  27. Falaammaa ra-awhu zulfatan seee’at wujoohul lazeena kafaroo wa qeela haazal lazee kuntum bihee tadda’oon

  28. Qul ara’aytum in ahlaka niyal laahu wa mam ma’iya aw rahimanaa famai-yujeerul kaafireena min ‘azaabin aleem

  29. Qul huwar rahmaanu aamannaa bihee wa ‘alaihi tawakkalnaa fasata’lamoona man huwa fee dalaalim mubeen

  30. Qul ara’aytum in asbaha maaa’ukum ghawran famai ya’teekum bimaaa’im ma’een

ये Surah Mulk है जिसे आप रोमन टेक्स्ट में देख सकते हैं। "बिस्मिल्ला-हिर्रहमा-निर्रहीम" कहकर इस सूरह को पढ़ना शुरू कीजिये।

Surah Mulk in English

1. Blessed is He in whose hand is the dominion, and He is able to do all things.

2. He who created death and life to test you as to which of you is best in deed, and He is the Exalted in Might, the Forgiving.

3. [And] who created seven heavens in layers. You do not see in the creation of the Most Merciful any inconsistency. So return [your] vision [to the sky]; do you see any flaw?

4. Then return [your] vision twice again. [Your] vision will return to you humbled while it is warn out.

5. And We have certainly beautified the nearest heaven with stars and have made [from] them what is thrown at the devils and have prepared for them the punishment of the Blaze.

6. And for those who disbelieved in their Lord is the punishment of Hell, and wretched is the destination.

7. When they are cast therein, they will hear the (terrible) drawing in of its breath even as it blazes forth,

8. It almost bursts with rage. Every time a company is thrown into it, its keepers ask them, "Did there not come to you a warner?"

9. They will say," Yes, a warner had come to us, but we denied and said, ' Allah has not sent down anything. You are not but in great error.' "

10. And they will say, "If only we had been listening or reasoning, we would not be among the companions of the Blazing Fire."

11. And they will admit their sins, so [it is] alienation for the companions of the Blazing Fire.

12. Surely, those who fear their Lord in the unseen will have forgiveness and a great reward.

13. And conceal your word or manifest it; surely, He is All-Knowing of the hearts.

14. Does He not know, Who created? And He is the Most Subtle, the All-Aware.

15. He it is Who made the earth smooth for you; so go about in its expanses and eat of His provisions. And to Him is the resurrection.

16. Have you become secure of Him Who is in the heaven that He will not make the earth to swallow you up? Behold, it trembles.

17. Or have you become secure of Him Who is in the heaven that He will not send against you a violent storm? But you shall know how was My warning.

18. And verily, those before them also denied, then how terrible was My denial!

19. Have they not seen the birds above them, spreading out their wings and closing them? Naught upholds them save the Most Gracious. Verily, He is the All-Seer of everything.

20. Who is he that can be an army to you to help you beside the Most Gracious? Verily, the disbelievers are in nothing but delusion.

21. Or who is there that can provide you with Sustenance if He were to withhold His provision? Nay, they obstinately persist in insolent impiety and flight (from the Truth).

22. Is he who walks prone on his face better guided, or he who walks upright on a straight path?

23. Say, "It is He Who brought you into being and made for you the ears and the eyes and the hearts. But little thanks you give."

24. Say, "It is He Who scattered you in the earth, and to Him you shall be gathered together."

25. They ask: When will this promise be (fulfilled)? – If ye are telling the truth.

26. Say: “As to the knowledge of the time, it is with Allah alone: I am (sent) only to warn plainly in public.”

27. But when they see it near, the faces of those who disbelieve will be woe-begone, and it will be said, "This is that which you were calling for."

28. Say, "Have you thought if Allah destroys me and those with me, or has mercy on us, who then can protect the disbelievers from a painful punishment?"

29. Say, "He is the Most Gracious; we believe in Him, and upon Him we rely. So you will know who is in manifest error."

30. Say, "Have you thought if your water should vanish, who then can bring you water from a fresh spring?"

ये Surah Mulk है जिसे इंग्लिश भाषा में दिया गया हैं। हालांकि आप ऊपर दिया गया ही सूरह पढ़े जो अरबिक में दिया गया हैं। ये उनके लिए हैं जो ऊपर दिए गए सूरह को पढ़ नहीं पाते।

आपने सूरह मुल्क को देख लिया हैं, अब इसका मतलब क्या हैं ये समझते हैं। बिना मतलब जाने सिर्फ पढ़ते रहना, ये कोई अच्छी बात नहीं हैं। ये नियम सिर्फ इस सौराह के लिए नहीं, बल्कि आप जो भी चीज पढ़े, चाहे वो इस्लाम के बारे में हो या किसी और बारे में, उसे समझना बोहोत जरूरी हैं।

सूरह के पहले तीन आयतों में अल्लाह सबसे ताकदवर हैं जिसने जिंदगी और मौत को बनाया, उसीने एक के ऊपर एक सात जन्नते बनायी, और जिसने ऐसी दुनिया बनायीं जिसमे कोई गलती दिखाई नहीं देती। आप जब भी इस रचना को देखोगे तो आप अचंभित हो जाओगे।

अगली आयत में हमें अल्लाह के काम में गलती गुंजाइश नहीं हैं और परफेक्ट हैं ये देखने मिलता हैं। पांचवी आयत में जो बताया गया हैं उसके बारे में कई लोगोंके मन में सवाल रहते हैं। अपने टूटते हुए तारे दिखे होंगे, तो ये आयत उसी के बारे में हैं। इसमें बताया गया हैं की जो सबसे निचे वाली जन्नत हैं, उसे तारोंसे सजाया गया हैं। जब अल्लाह को शैतान को मारना होता हैं, तब अल्लाह इन तरोंको फेक के मारता हैं। इसके आगे वाली आयत में लिखा हैं की जो अल्लाह के पैगाम को नहीं मानते, उन्हें सजा देने के लिए जहन्नुम को बनाया गया हैं।

अगली तीन आयतो में बताया गया हैं की जब नबी ने लोगोंके लिए अल्लाह का पैगाम लाया, तब कुछ लोगोने उसे ठुकराया और कहा की ये अल्लाह का पैगाम नहीं हैं। जब ऐसे लोगोंको मौत के बाद जहन्नुम में ले जायेंगे तब उनसे पूछा जायेगा की आपको ये पैगाम मिला था की नहीं? तब उनको वो चीजे देखकर खुदपर गुस्सा करेंगे।

आयत नंबर १२ में ये बताते हैं की लोगोंको बिना देखे ही अल्लाह से डरना चाहिए ताकि उन्हें आख़िरत में सजा ना मिले। आगे बताया जाता हैं की जिसने इस दुनिया को बनाया हैं उसे तुम्हारे मन में क्या हैं इसे जानने में वक्त नहीं लगेगा। उसने जो रास्ता बताया हैं उसी पर हर किसीको चलना चाहिए और जिंदगी के मजे लेने चाहिए।

आयत सोला से उन्नीस तक अल्लाह बताता हैं की जो कुछ भी करोगे और मुझे पता नहीं चलेगा, ऐसा क्यों सोचते हो। इसमें बताया गया की जो भूकंप जैसे हालत पैदा होते हैं वो एक चेतावनी ही होती हैं, जिसे आपको समझना चाहिए। जो उसे नहीं समझना चाहते उन्हें अल्लाह सजा देना जनता हैं। इसके आगे की आयतोंमे बताया गया की अल्लाह ही हैं जो सबकी मदद करता हैं, और हर चीज करवाता हैं, पर जिनको इसपर विश्वास नहीं, वो सिर्फ भ्रम में जीते हैं।

सूरह की आखरी आयतोंमे में नबी ने बताया की उस अल्लाह ने उन्हें उसका सन्देश लोगोंतक स्पष्ट रूप से देने के लिए भेजा हैं। उसे हर समय के बारे मालूम हैं, और जब काफिर उसे देखेंगे, तब उनके चेहरे उदास हो जायेंगे। जब लोग उसपर ईमान लाएंगे तब उन्हें जहन्नुम से वही बचाएगा। अल्लाह बड़ा रहमदिल हैं।